Wednesday, June 27, 2018

LOVE SHAYARI:-

LOVE SHAYARI

{तुम्हारी प्यारी सी नज़र अगर इधर नहीं होती :
नशे चूर फ़ज़ा इस कदर नहीं होती :
तुम्हारे आने तक हमें होश रहता है :
फिर उसके बाद हमें कुछ खबर नहीं होती }
⧭⧬⧭

{तेरे सिवा कोन  समा सकता  इस दिल में :
रूह भी गिरवी रख दी है मैंने तेरी चाहत में }
⧭⧬⧭

{मोहब्बत किस्से और कब हो जाए:
 अंदाजा नहीं होता ;
यही वो घर है जिसका कोई दरवाज़ा नहीं होता }
⧭⧬⧭

{रात की गहराई आँखों में उतर आई :
कुछ ख्वाब में तो कुछ तन्हाई में :
ये जो पलकों से बह रहे है हलके हलके :
कुछ तो मजबूरी थी और कुछ तेरी तन्हाई }
⧭⧭⧭


{माना हम हालात से मजबूर रहते है 
फिर भी तेरी यादो में चूर रहते है 
आँखों में रहती है तस्वीर तुहारी 
क्या हुआ की हम तुम से दूर दूर रहते है }
⧭⧭⧭


{हमने सोचा की सिर्फ हम चाहते है तुमको 
पर तुम्हारे चाहने वालो का तो काफिला निकलता है 
दिल ने कहा की करु शिकायत तुम्हारी खुदा से 
पर वो भी तुहरे चाहने वाला निकला }
⧭⧭⧭


सहमी सी निगाहो में हम ख्वाब जगा देंगे 
आपकी की सुनी सी राहो में हम फूल बिछा देंगे 
हमारे संग मुस्कुरा के तो देखिये जरा 
हमआप का हर गम चुटकियो में भुला देंगे 
⧬⧬⧬⧬


प्यारी 

No comments:

Post a Comment