Thursday, June 28, 2018

SOME SHAYARI

SOME SHAYARI

{दुनिया में कभी किसी से प्यार मत करना :
अपने अनमोल आंसू इस तरह बर्बाद मत करना :
काटे तो फिर भी दामन थाम लेते है :
फूलो पर कभी इस तरह तुम ऐतबार मत करना }
⧭⧭⧭

{दर्द है दिल में पर एहसास नहीं होता :
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता :
बर्बाद हो जाये हम उसके प्यार में :
 और वो कहता है ;                    
इस तरह प्यार नहीं होता }
⧭⧭⧭

{वो बेवफा हमारा इम्तेहा क्या लेगी :
मिलेगी नज़रो से नज़रे तो नज़रे झुका लेगी :
उसे मेरी कब्र पर दिया मत जलाने देने :
वो नादान है यारो अपने हाथो को जला लेगी }
⧭⧭⧭

{न तेरे आने की ख़ुशी 
                    न तेरे जाने का गम 
बीत गया वो जमाना 
                    जब तेरे दीवाने थे हम }
⧭⧭⧭


कुछ रिश्ते अनजाने बन जाते है 
पहले दी और पहिए जिंदगी से जुड़ जाते है 
कहते है उस दौर को दोस्ती 
फिर अनजाने भी अपने जान बन जाते है 
⧭⧭⧭


किसी को चाहो तो इस अंदाज से चाहो 
की वो तुम्हे मिले या न मिले 
पर उसे जब भी प्यार मिले तुम जरूर याद आओ 
⧭⧭⧭


मार ही डाल तू मुछे चश्मे अदा से पहले 
अपने मंजिल पर पहुंच जाऊ कज़ा से पहले 
एक नज़र देख लु आ जाओ कज़ा से पहले 
तुमसे मिलने की तमन्ना है खुदा से पहले 
हश्र के रोज़ मई पूछूंगा खुदा से पहले 
तूने रोका नहीं क्यों मुझको खता से पहले 
ये मौत ठहर जा जरा उसको आने दे 
जहर का जाम न दे दवा से पहले 
हाथ पहुंचे भी न थे ज़ुल्फ़ पर यारो 
हथकड़ी दाल दी ज़ालिम ने खता से पहले 
⧭⧭⧭


मेरे दिल में  आज ख्याल तेरा आ ही गया 
जो छुपा था तेरे लबो पर वो सवाल आ ही गया 
रोज़ रोज़ अजाती  हो तुम मेरे ख्वाबो में 
आज दिन मै  तेरा जवाब आ ही गया 
रात कटती है रोज़ तेरी यादो में 
आज मेरी निगाहो में तेरा ख्वाब आ ही गया 
दर्द तन्हाई का मुछसे खफा खफा रहता है 
आज तेरे घर में जख्मो का मरहम आ ही गया 
तो कोई गैर नहीं थी मेरे लिए 
तेरा दिल भी आज मेरे दहलीज़ पर आ ही गया 
⧭⧭⧭








No comments:

Post a Comment