Sunday, July 29, 2018

DEVOTIONAL SHAYARI

DEVOTIONAL SHAYARI

गुजारिश  हमारी वो मान न सके ;
मजबूरी हमारी वो जान न सके ;
कहते है मरने के बाद भी याद रखेंगे ;
जीते जी जो हमें पहचान न सके :
⧭⧭⧭

सुकून अपने दिल का मैंने खो दिया ;
खुद को तन्हाई के समुन्दर में डुबो दिया ;
जो भी थी मेरे मुस्कुराने की  वजह ;
आज उसकी कमी ने मेरे पलकों को भिगो दिया :

⧭⧭⧭

नाराज होना आपसे गलती कहलाएगी ;
आप हुए नाराज़ तो ये साँसे थम जायेगी ;
आप हस्ते रहे यही जिंदगी भर ;
आपकी हसी से हमारी जिंदगी सवर जायेगी :
                                  
                                  ⧭⧭⧭

                                      ⧭
जिंदगी लहर थी आप साहिल हुए ; 
न जाने कैसे हम आपकी दोस्ती के काबिल हुए ;
न भुलायेंगे हसीन पल को; 
जब आप  हमारी छोटी सी जिंदगी में शामिल हुए :
                                 ⧭⧭⧭

                                    ⧭
तमनना करते हो जिन खुशियों की ;
दुआ है वो खुशिया आप के कदमो में हो ;
खुदा आपको वो सब हकीकत में दे ;
जो कुछ आपके सपनो में हो:
⧭⧭⧭⧭⧭⧭⧭


1 comment: